Environment Poems: 15/21
Nature, Environment
[yasr_visitor_votes_readonly size="small"]

प्रकृति के साथ सद्भाव

© Hema ravi

Coopenhagen Summit, Antartic Ice melting, Flash Floods...Tsunamis.. Unless we live in harmony with nature, we will have to face these growing threats to our lives in the generations to come.

Listen to the Poem

स्वर्गीय संगीत-

मानव जीविका के लिए एनर्जिज़र

सांसारिक अस्तित्व के दुख को भूल जाओ।

स्वर्गीय आनंद

प्रकट करने के लिए इंतजार कर रहा है

दिन के बाद रंगों के असंख्य।

दोस्त के फूल,

सुबह में पक्षियों की चहक,

सूर्य पहाड़ियों पर वृद्धि, बस दिव्य!

ताल समझौता बनाता है,

अजीब नोट असंगत का कारण बनता है,

रोजमर्रा की जिंदगी में लय परेशान करता है।

प्रकृति का गीत-

मानव प्रकार लंबे समय के लिए आनंद ले सकते हैं

अनुसार रहते हैं, और परिणाम का सामना करने के लिए.

ग्लोबल वार्मिंग, ग्लेशियरों के पिघलने

अंटार्कटिक बर्फ गायब हो रही है, किनारे लाइनों घटते,

उन सभी के लिए कौन जिम्मेदार है?

हेमा रवि, 13.12.09

Rate this Poem
Rating: 3.6 - 51 votes
Advertisements